यूपी: नगर विकास मंत्री ने अधिकारियों को दिया सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश के नगर विकास मंत्री ए. के. शर्मा ने सभी निकायों में 72 घण्टें का अनवरत सफाई अभियान चलाकर सभी नाले व नालियों की सफाई कराने का निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि सफाई कार्यों की निगरानी और समीक्षा करने के लिए सभी निकायों में नोडल अधिकारी भी तैनात किये जायें। नालों की सफाई कार्यों में किसी भी प्रकार की कमी व चूक न रह जाये, जहां आवश्यक हो वहां कार्यों की ड्रोन से निगरानी भी करायी जाये। नगर विकास मंत्री अपने 14-कालिदास आवास से निकायों के सफाई कार्यों की वर्चुअल समीक्षा कर हकीकत जानी।

बरसात के मौसम में शहरों में कहीं पर भी जलभराव की समस्या न हो
ए०के० शर्मा ने कहा कि बरसात के मौसम में शहरों में कहीं पर भी जलभराव की समस्या न हो, इसके लिए सभी बाढ़ पम्पिंग स्टेशनों और पम्पिंग सेट की जांच कर लें कि वे सभी चालू हालात में हैं, जहां कहीं पर भी पम्पिंग सेट की और अधिक आवश्यकता हो, वहां शीघ्र व्यवस्था कर ली जाए। “आग लगने पर कुआँ खोदने वाली प्रवृत्ति अब नहीं चलेगी” लोगों के घरों में गंदा पानी भरे, इससे पहले ही सम्पूर्ण तैयारी पूरी कर ली जाये। शहरों में जलभराव को रोकने के लिए सभी नाले की तलछट सफाई करायी जाए, जहां कहीं पर भी झाड़ियां आदि उग आई हों, उसे हटाया जाये, जिससे कि बरसाती पानी के निकलने में कहीं पर भी अवरोध न हो। नाले के सफाई कार्यों में किसी भी स्तर की लापरवाही और शिथिलता बर्दाश्त नहीं की जायेगी। मैनपावर और मशीन का अधिकतम प्रयोग कर सफाई कार्यों में गति लायें, जिससे कि बरसात में कहीं पर भी गंदगी, कीचड़ और जलभराव न दिखे।

बीमारियों की रोकथाम के लिए आवश्यक दवाइयों का प्रबन्ध और फॉगिंग की व्यवस्था हो
नगर विकास मंत्री ने कहा कि बरसात में जलभराव व गंदगी से संचारी रोगों डेंगू, चिकनगुनिया एवं मच्छरजनित बीमारियों के होने की संभावना बढ़ जाती है। इसकी रोकथाम के लिए आवश्यक दवाइयों का प्रबन्ध और फॉगिंग की व्यवस्था हो। गंदे पानी की आपूर्ति न होने पाये। खाली प्लाटों में भी जलजमाव न हो, लोगों को भी जागरूक करें कि उनके घरों के छतों, गमलों या किसी भी पात्र में जलजमाव न होने पाये। बरसात में नियमित साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दें। कहीं पर भी कूड़े का ढेर न दिखे। जलकल विभाग से समन्वय कर सीवर सफाई की समुचित व्यवस्था करायें।

सभी संबंधित अधिकारियों को दिए निर्देश
मंत्री ने नगर निकाय के सभी नगर आयुक्तों और महापौरों से चर्चा कर उनकी समस्याएं सुनीं और समाधान किए। उन्होंने सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे इन सभी निर्देशों का पालन सुनिश्चित करें और नगरीय विकास को सुचारू रूप से आगे बढ़ाएं। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि प्रत्येक नगरीय निकाय को अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन तत्परता और ईमानदारी से करना चाहिए ताकि नागरिकों को किसी भी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पड़े।

E-Magazine