मानसून में फैशन के लिए नायलॉन और पॉलिएस्टर का इस्तेमाल करती हैं विदिशा श्रीवास्तव

मुंबई, 28 जून (आईएएनएस)। टीवी के पॉपुलर शो ‘भाबीजी घर पर हैं’ में गोरी मेम का रोल अदा करने वाली विदिशा श्रीवास्तव ने मानसून फैशन ट्रेंड्स पर बात की। उन्होंने कहा कि वह मानसून में नायलॉन और पॉलिएस्टर जैसी सिंथेटिक मटेरियल पहनना पसंद करती हैं, क्योंकि वे मॉइश्चर-रेजिस्टेंस है और जल्दी सूख जाते हैं।

मानसून फैशन का मतलब है स्टाइलिश और कंफर्टेबल रहते हुए मौसम को एन्जॉय करना।

विदिशा सिटकॉम ‘भाबीजी घर पर हैं’ में अनीता भाभी का किरदार निभा रही हैं।

उन्होंने कहा, “बारिश के मौसम में, आपको स्टाइल से समझौता करने की जरूरत नहीं है। जब बारिश शुरू होती है, तो मैं नायलॉन और पॉलिएस्टर जैसे सिंथेटिक कपड़े पहनना पसंद करती हूं, जो मॉइश्चर को सोख लेते हैं और जल्दी सूख जाते हैं।”

उन्होंने कहा, “मैं बारिश में हैवी कॉटन और वूलन कपड़ों को पहनने से बचती हूं, क्योंकि इन्हें सूखने में ज्यादा समय लगता हैं। मुझे ज्यादा आकर्षक दिखने के लिए ब्राइट और बोल्ड प्रिंट वाले कपड़े पहनना पसंद है। प्लास्टिक जूलरी इस मौसम में फैशनेबल बने रहने के लिए एक बढ़िया ऑप्शन है।”

विदिशा ने कहा, “मेरा पसंदीदा लुक एक स्टाइलिश वाटरप्रूफ जैकेट है, जिसे कलरफुल वाटरप्रूफ फुटवियर के साथ पेयर करना, और अपने आउटफिट में स्टाइल जोड़ने के लिए एक ट्रेंडी, कॉम्पैक्ट छाता ले जाना न भूलें।”

वर्कफ्रंट की बात करें तो, विदिशा ने 2007 में एसपी एंटरटेनमेंट की तेलुगु फिल्म ‘मां इद्दारी मध्य’ से एक्टिंग की शुरुआत की थी। उन्होंने ‘अला’, ‘प्रेम’, ‘अथिली सत्तीबाबू एलकेजी’ जैसे अन्य तेलुगु प्रोजेक्ट्स में भी काम किया।

वह कन्नड़ फिल्म ‘नलि नलियुथा’ का हिस्सा रहीं। तमिल फिल्मों में उन्होंने ‘कथावरायण’ और मलयालम फिल्म ‘लकी जोकर्स’ में भी काम किया है।

छोटे पर्दे की बात करें तो उन्होंने टीवी शो ‘ये है मोहब्बतें’ से शुरुआत की थी। इसके बाद, वह ‘मेरी गुड़िया’, ‘श्रीमद् भागवत महापुराण’, ‘दुर्गा-माता की छाया’ और ‘काशीबाई बाजीराव बल्लाल’ जैसे टीवी शो में नजर आईं।

विदिशा अपनी पर्सनल लाइफ को सीक्रेट रखती हैं। उन्होंने साल 2018 में सायक पॉल संग बनारस में सात फेरे लिए। शादी के पांच साल बाद, पिछले साल जुलाई में कपल ने अपने पहले बच्चे का स्वागत किया।

‘भाबीजी घर पर हैं’ एंड टीवी पर प्रसारित होता है।

–आईएएनएस

पीके/एसकेपी

E-Magazine