वाराणसी: रात 8:30 बजे के बाद गंगा में नहीं चलेंगी नावें

काशी में नौका संचालन के समय में बदलाव किया गया है। ऐसे में 9 बजे के बाद किसी भी सूरत में नौका संचालन बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। ऐसा करते हुए पाए जाने पर नाव जब्त कर नाव के मालिक के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाएगी।

जल पुलिस ने गंगा में चलने वाली नावों के रात्रिकालीन समय में बदलाव किया है। पर्यटकों की सुरक्षा के मद्देनजर जल पुलिस ने रात 8:30 बजे के बाद नौका संचालन पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसमें नावों को अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए आधे घंटे की छूट भी दी है।

जल पुलिस प्रभारी ने बताया कि रात 8:30 बजे के बाद नौका संचालन पर रोक लगाने का फैसला नाविक समाज की सहमति से लिया गया है। रात 9 बजे के बाद नौका संचालन करते हुए पाए जाने पर नाव जब्त कर नाव के मालिक के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाएगी और नाव का लाइसेंस निरस्त करने की कार्रवाई की जाएगी।

काशी में लगातार पर्यटकों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। शनिवार और रविवार को निगरानी बढ़ा दी जाती है। मंगलवार को 8:30 बजे के बाद निगरानी टीम ने लाउड हेलर के माध्यम से नाविकों को चेतावनी दी। पहले दिन 10 नाविकों को चेतावनी देकर छोड़ दिया गया। जल पुलिस प्रभारी के मुताबिक मई और जून माह में डूबने की घटना बढ़ जाती है। लोगों की सुरक्षा के लिए जल पुलिस द्वार गंगा में सुरक्षा बढ़ाई गई है। बताया कि शनिवार और रविवार को विशेष चौकसी का बंदोबस्त किया गया है।

चार टीमें कर रहीं निगरानी
प्रतिबंध के बाद गंगा में निगरानी के लिए जल पुलिस और एनडीआरएफ की ओर से कुल चार टीमें लगाई गई हैं। जल पुलिस प्रभारी मिथिलेश यादव ने बताया कि निगरानी में जल पुलिस की दो नाव पर दो टीम और एनडीआरएफ की दो नाव पर दो टीम तैनात की गई है। एक नाव क्रू के अलावा तीन सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं।

E-Magazine