एटीएम में गड़बड़ी कर 25 लाख रुपये निकाले, दो गिरफ्तार

नोएडा, 28 जून (आईएएनएस)। नोएडा की साइबर क्राइम पुलिस ने पीएनबी से कोरोना काल के दौरान फर्जी पतों पर आधार कार्ड का प्रयोग कर कार्डलेस पैसे निकालने की स्कीम के तहत एटीएम में गड़बड़ी कर 24 लाख 40 हजार रुपये, लैप्स बीमा पॉलिसी को चालू कराने के नाम पर करोड़ों रुपयों की ठगी करने वाले दो साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया है।

पुलिस ने बताया कि नोएडा में पीएनबी ‘भंगेल शाखा’ के प्रबंधक ने 30 सितंबर 2021 को थाना फेस 2 में इस फर्जीवाड़े के लिए एफआईआर दर्ज करवाई थी। इसमें योगेश चौहान को आरोपी बनाया गया था।

मामले की जांच साइबर थाने की पुलिस कर रही थी। जांच में अभिषेक प्रताप सिंह और योगेश चौहान का नाम सामने आया था। इसके बाद दोनों को 28 जून को गिरफ्तार किया कर लिया गया।

पुलिस के मुताबिक, आरोपियों ने पूछताछ के दौरान बताया है कि बैंकों ने कोरोना काल में ऑनलाइन बैंक खातों को खोलने की सुविधा दी थी। उसका फायदा उठाकर दोनों ने कई और लोगों की मदद से विभिन्न बैंक खातों में फर्जी नाम व पते के आधार कार्ड बनवाकर फर्जी सिम की मदद से बैंक खाते खुलवाए।

इसके बाद उन पर इंटरनेट बैंकिंग, एटीएम और कार्डलेस एटीएम सुविधा को एक्टिव किया। साथ ही विभिन्न बीमा कंपनियों के, जिनका बीमा किसी कारण से बंद हो गया था, ऐसे व्यक्तियों का डाटा थर्ड पार्टी के माध्यम से लेकर बीमा पॉलिसी दोबारा शुरू करने का प्रलोभन व बोनस के लाभ का झांसा देकर लोगों के साथ धोखाधड़ी की जाती थी। फर्जी खातों मे जमा की गई धनराशि को कार्डलेस एटीएम सुविधा से निकाला जाता था।

दोनों शातिर एटीएम से पैसे निकालते वक्त उसमें ऊपर ओर नीचे के नोटों को छोड़कर बीच के नोटों को चिमटी से पकड़कर रखते थे। कुछ समय बाद मशीन ऊपर और नीचे के नोटों को वापस खींच लेती थी। चिमटी वाले नोट आरोपी बाहर निकाल लेते थे। इस प्रकार उस निकासी में पहले तो डेबिट होने का मैसेज आ जाता था। परंतु मूल बैंक खाते से धनराशि नहीं कटती थी। आरोपियों ने पीएनबी भंगेल (नोएडा) के इसी तरह एटीएम कार्डलेस से धोखाधड़ी कर 24 लाख 40 हजार रुपये खाते से निकाल लिए।

–आईएएनएस

पीकेटी/सीबीटी

E-Magazine