हजारों भूटानी नागरिक गोरसम कोरा महोत्सव के लिए अरुणाचल के जेमीथांग में जुटे

[ad_1]

कोलकाता/ईटानगर, 9 मार्च (आईएएनएस)। बौद्ध भिक्षुओं सहित हजारों भूटानी नागरिक इस समय वार्षिक गोरसम कोरा महोत्सव का हिस्सा बनने के लिए अरुणाचल प्रदेश के सुरम्य जेमीथांग में हैं।

7 मार्च से शुरू हुआ ये फेस्टिवल 10 मार्च तक चलेगा।

जेमीथांग, अरुणाचल प्रदेश में भारत का अंतिम प्रशासनिक प्रभाग, अपनी पश्चिमी सीमा भूटान के साथ साझा करता है।

वहीं, यह चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के करीब स्थित है।

यह उत्सव 12वीं शताब्दी के गोरसम चोर्टेन स्तूप के आसपास आयोजित किया जाता है, और यह तवांग मठ से भी पुराना है।

नागरिक प्रशासन के अलावा, भारतीय सेना की गजराज कोर उत्सव के आयोजन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। सेना पिछले तीन दिनों से भारत और भूटान के तीर्थयात्रियों और आकस्मिक आगंतुकों दोनों के लिए कई कार्यक्रम आयोजित कर रही है।

गजराज कोर, इसे ‘साझा सांस्कृतिक विरासत का जश्‍न’ कहता है।

केंद्र बिंदु हिमालयी बौद्ध धर्म है जो सीमा के दोनों ओर के लोगों के दिलों के करीब है।

तवांग के एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी ने कहा, “हालांकि यह उत्सव वर्षों से चल रहा है, लेकिन हाल ही में चीन द्वारा भूटान के साथ मजबूत संबंध बनाने के प्रयासों के कारण इसका महत्व बढ़ गया है। यह क्षेत्र रणनीतिक महत्व का है, क्योंकि यह भारत, भूटान और चीन के बीच एक प्रकार का जंक्शन है। इस तरह के आयोजन भूटान और भारत के लोगों के बीच सदियों पुराने संबंधों को मजबूत करने में मदद करते हैं।”

संयोगवश, 14वें दलाई लामा ने 1959 में तिब्बत से भारत आते समय अपना पहला विश्राम ज़ेमीथांग में ही किया था।

जब वह वहां थे, उन्होंने खिनजेमाने में एक पौधा लगाया। आज, यह पौधा एक बड़ा पेड़ है और वहां प्रार्थना करने वाले तीर्थयात्रियों द्वारा इसे पवित्र माना जाता है।

93 फीट ऊंचा गोरसम चोर्टेन स्तूप नेपाल के बौधनाथ खस्ती स्तूप की तर्ज पर बनाया गया है।

अधिकारी ने कहा, त्योहार के दौरान श्रद्धालु चंद्र कैलेंडर के पहले महीने के आखिरी दिन को शुभ अवसर मानते हैं।

–आईएएनएस

एसजीके/

[ad_2]

E-Magazine