यूपी: आज से अमेठी में कांग्रेस का रण संभालेगी प्रियंका गांधी

पांचवें चरण के चुनाव के लिए अमेठी का सियासी रण दिलचस्प होता जा रहा है। वजह, हर बार की तरह इस बार भी खुद प्रत्याशी बने बिना कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा चुनाव मैदान में है। उनके कंधों पर गांधी परिवार की उस सीट को जीतने की चुनौती है, जिसे वर्ष 2019 में भाजपा की स्मृति जूबिन इरानी ने भाई राहुल गांधी से छीन लिया था। इस बार भी स्मृति जूबिन इरानी दोबारा से भाजपा से मैदान में है, जबकि उनके सामने गांधी परिवार ने अपने करीबी केएल शर्मा को मैदान में उतारा है। इसी बीच बृहस्पतिवार की शाम को प्रियंका गांधी अमेठी पहुंच रही है। वह यहां पर पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करेंगी

अमेठी में वर्ष 1999 में मां सोनिया गांधी के साथ ही 2004,2009,2014 व 2019 में भाई राहुल गांधी का चुनाव देखने वाली प्रियंका गांधी वाड्रा एक बार फिर मैदान में है। वह इस बार गांधी परिवार के करीबी किशोरी लाल शर्मा के लिए मैदान तैयार कर रही है। वह पहले भी बूथ वार रणनीति बनाकर ही चुनाव लड़वाती रही हैं। नामांकन के समय केएल शर्मा के साथ प्रियंका गांधी ने मंच शेयर करके साफ कर दिया था कि छह मई से वो यहीं रहेंगी। जिससे एक बात साफ हो गई है कि कांग्रेस किसी तरह की कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहती है। इन्हीं सबके बीच प्रियंका गांधी बृहस्पतिवार की शाम को अमेठी पहुंच रही है। मीडिया प्रभारी अनिल सिंह ने बताया कि न्याय यात्रा के दौरान जिस स्थल पर राहुल गांधी ने विश्राम किया था, वहीं पर प्रियंका 1923 बूथ अध्यक्ष, 130 न्याय पंचायत प्रभारी, 877 ग्राम पंचायत प्रभारी व 100 अन्य के साथ बैठक करके रणनीति को अंतिम रूप देंगी।

स्वतंत्रता सेनानियों के परिजनों से मिलने की तैयारी
प्रियंका गांधी अमेठी में नुक्कड़ सभाएं करेंगी, जिसके लिए कार्यक्रम तैयार किए जा रहे हैं। प्रियंका टीम की ओर से तैयार किए जा रहे रोडमैप के तहत वह कुछ इलाके में रोड शो कर सकती हैं। इस दौरान प्रियंका गांधी स्वतंत्रता सेनानियों के परिवारों और दशकों से गांधी परिवार के साथ संबंध रखने वाले लोगों के घर जाकर मुलाकात कर सकती है। इसके माध्यम से पुराने संबंधों को एक बार फिर मजबूत करने की कोशिश की जाएगी।

सीधे बूथ कार्यकर्ता तक पहुंचेगा प्रियंका का टास्क
प्रियंका गांधी की टीम बूथ स्तर पर तैयार डाटा को अपडेट कर रही है। बूथ स्तर तक के कार्यकर्ताओं का वाट्सएप ग्रुप बनाया जा रहा है। इसमें हरेक गतिविधि पर फोकस किया जाएगा। प्रियंका गांधी हर एक कार्यकर्ताओं का वोट का टॉस्क देंगी।

जुटाई जा रही सूची
प्रियंका गांधी की टीम में कई ऐसे विशेषज्ञ भी शामिल हैं, जो फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप पर नजर रख रहे हैं। विभिन्न सामाजिक संगठनों के साथ ही महिला समूहों की सूची जुटाई जा रही है। हर रोज शाम के वक्त प्रियंका गांधी अलग-अलग संगठनों के लोगों से संवाद करेंगी। इसके लिए महिलाओं की अलग से टीम बनाई जा रही है।

यह है अमेठी का कांग्रेस प्लान
अमेठी सीट को लेकर कांग्रेस ने प्लान तैयार किया है। इसमें सबसे ज्यादा फोकस इस बात पर किया जा रहा है कि आखिर वह कौन से कारण थे, जिसके कारण वर्ष 2019 में राहुल गांधी को चुनाव हारना पड़ा। वहीं, संगठन में कहां-कहां कमजोरी है, कैसे उसे दूर किया जाय। पुराने कांग्रेसी कहां है, वह वर्तमान में किस और दल के साथ है या फिर निष्क्रिय है। इन सभी बिंदुओं पर प्रियंका की टीम इनपुट जुटा रही है। साथ ही आम लोगों के पास सीधे फोन पहुंच रहे हैं, जिसमें उनका मन टटाेला जा रहा है कि आखिर उनके मन में क्या है। यही नहीं, राजीव गांधी से लेकर राहुल गांधी के कार्यकाल में विकास कार्यों के बारे में कांग्रेसी गांव-गांव बता रहे हैं। मीडिया समन्वयक डॉ. अरविंद चतुर्वेदी कहते हैं कि वर्तमान में हर गांव में तीन टीमें काम कर रही है। कांग्रेस के घोषणा पत्र से लेकर अन्य जानकारी गांव-गांव लोगों को दी जा रही है।

E-Magazine