देश के टॉप गेमर्स से बातचीत में पीएम मोदी ने दिया हर सवाल का जवाब

पीएम मोदी ने आज देश के टॉप गेमर्स से बातचीत की है। पीएम ने उनके कई सवालों का मजेदार अंदाज में जवाब दिया है। वहीं, पीएम ने इन गेमर्स के साथ ऑनलाइन गेमिंग में हाथ भी अजमाया।  मोदी ने गेमिंग उद्योग से संबंधित कई समस्याओं पर गेमर्स से बातचीत की।

पीएम ने कुछ गेम्स में आजमाया हाथ 

भविष्य के साथ-साथ ई-गेमिंग उद्योग के समक्ष चुनौतियों के बारे में बातचीत के दौरान पीएम ने गेमर्स से कुछ उत्सुक प्रश्न भी किए और साथ ही कुछ गेम्स में अपना हाथ भी आजमाया।

गेमर्स को दिया खास सुझाव

पर्यावरण की चिंता करते हुए पीएम ने कहा कि कई लोगों ने इस पर अलग-अलग समाधान पेश किए हैं। मेरे पास मिशन लाइफ नामक एक वैकल्पिक समाधान है, जो पर्यावरण को लाभ पहुंचाने के लिए हमारी दैनिक जीवनशैली को बदलने की वकालत करता है। 

पीएम ने इसी के साथ गेमर्स को एक खास सुझाव देते हुए कहा कि वैश्विक जलवायु परिवर्तन की समस्या को संबोधित करने के उद्देश्य से आपको एक गेम की कल्पना करनी चाहिए, जहां गेमर को विभिन्न तरीकों और समाधानों का पता लगाना होगा।

पीएम ने खुद उदाहरण देकर समझाया

पीएम ने पर्यावरण से संबंधित गेम लाने पर बात करते हुए एक उदाहरण भी दिया। पीएम ने कहा, एक उदाहरण के रूप में स्वच्छता को लें, खेल का विषय स्वच्छता के इर्द-गिर्द घूम सकता है और हर बच्चे को यह खेल खेलना चाहिए। युवाओं को भारतीय मूल्यों को अपनाना चाहिए और उनकी वास्तविकता को समझना चाहिए।

आप मुझे ई-मेल करना… 

गेमर्स से बातचीत के दौरान प्रधानमंत्री ने गेमिंग उद्योग में नए विकास पर चर्चा की। पीएम ने जोर दिया कि कैसे सरकार ने गेमर्स की रचनात्मकता को पहचाना है और भारत में गेमिंग उद्योग को बढ़ावा दिया है। उन्होंने गेमिंग उद्योग में महिलाओं की भागीदारी पर चर्चा करते हुए जुआ बनाम गेमिंग से संबंधित मुद्दों पर भी चर्चा की।

इसी के साथ पीएम ने गेमर्स से कहा कि वो और सरकार उनकी समस्याओं का हल निकालेंगे। पीएम ने कहा कि वो सभी समस्याओं को मेल कर बताएं।

ऑनलाइन गेमिंग पर क्या कानून लाएगी सरकार?

टॉप गेमर्स से बातचीत में पीएम ने कहा कि खेलों को ‘विनियमित’ करना सही नहीं होगा। सरकार दो चीजें कर सकती है, या तो कानून के तहत प्रतिबंध लगाए या इससे जुड़ी हर चीज को समझने की कोशिश करे और देश की जरूरतों के आधार पर उन्हें ढाले। पीएम ने कहा कि सरकार को इस विषय को समझना चाहिए और आवश्यक बदलाव करना चाहिए।

E-Magazine