बजट पर क्या बोलना है, विपक्ष के नेता पहले से लिखकर लाते हैं : देवेंद्र फडणवीस

मुंबई, 28 जून (आईएएनएस)। महाराष्ट्र विधानसभा के मॉनसून सत्र में सरकार ने शुक्रवार को अपना बजट पेश किया गया। वित्त मंत्री अजित पवार ने बजट में कई अहम घोषणाएं की। इसे लेकर विपक्ष के नेताओं ने महाराष्ट्र सरकार को निशाने पर लिया। बजट को लेकर उद्धव ठाकरे ने कहा कि “चादर लगी फटने, खैरात लगी बंटने”। वहीं, जयंत पाटिल ने कहा कि चुनाव के पहले लोगों को रिझाने के लिए आखिरी दांव चला है।

बजट पर विपक्ष की ओर से जारी हमले के बीच महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस की प्रतिक्रिया सामने आई है। उन्होंने कहा कि जयंत पाटिल या विपक्ष के सारे नेता पहले ही लिख कर लाते है कि बजट पर क्या बोलना है। हम कैसा भी बजट पेश करें, उनकी प्रतिक्रिया यही होती। उनके चेहरे पर नूर नहीं है, चेहरे की चमक चली गई है।

उन्होंने कहा कि ‘झूठा नैरेटिव’ फैलाकर लोकसभा में वो चंद सीटें जीत गए। उनके उत्साह को हमारे बजट ने खत्म कर दिया है। हमारे वित्त मंत्री अजित पवार ने बहुत ही रियलिस्टिक बजट पेश किया है। मै उनका अभिनंदन करता हूं, मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे का अभिनंदन करता हूं।

उन्होंने कहा कि प्रदेश के युवाओं, किसानों, महिलाओं, दलितों, आदिवासियों के लिए इस बजट ने नए दरवाजे खोले हैं। मैं ऐसा मानता हूं कि यह एक ऐतिहासिक बजट है। एक तरफ किसानों को मुफ्त बिजली मिल रही है। दूसरी तरफ, किसानों को दूध, सोयाबीन, कपास के लिए मदद मिल रही है।

उन्होंने कहा कि बजट में महिलाओं को मदद मिल रही है, युवाओं को 10 हजार रुपया अप्रेंटिस का मिल रहा है। मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना से सारी बहनों का कल्याण हो रहा है। मैं ऐसा मानता हूं कि एक बहुत ही अच्छा बजट हमारे वित्त मंत्री ने रखा है। मैं दावे के साथ कह रहा हूं कि हमने जो कहा है, वह तय समय सीमा के अंदर करके दिखाएंगे।

–आईएएनएस

पीएसके/सीबीटी

E-Magazine