राजद के एक करोड़ नौकरी देने के वादे पर भाजपा सहित एनडीए के घटक दलों ने उड़ाई खिल्ली

पटना, 13 अप्रैल (आईएएनएस)। राष्ट्रीय जनता दल के घोषणापत्र पर भाजपा सहित एनडीए के घटक दलों ने पलटवार किया है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सम्राट चौधरी ने राजद के घोषणा पत्र पर पर तंज कसते हुए कहा कि इसमें 1 करोड़ नौकरी देने की बात कही गई है। उन्होंने कहा कि 1 करोड़ नौकरी देंगे, तो जमीन कितनी लेंगे?

तेजस्वी यादव के घोषणापत्र पर उप मुख्यमंत्री सम्राट चौधरी ने कहा कि ये सिर्फ एक करोड़ नौजवानों को सपना दिखा सकते हैं और तेजस्वी यादव से पूछा जाना चाहिए कि एक करोड़ लोगों को रोजगार देंगे तो जमीन कितनी लेंगे।

इधर, जदयू के मुख्य प्रवक्ता और बिहार के पूर्व मंत्री नीरज कुमार ने राजद पर कटाक्ष करते हुए कहा कि खुद तो 23 सीटों पर चुनाव लड़ रहे हैं और राष्ट्रीय संदर्भ का घोषणा पत्र जारी कर रहे हैं, पूरे देश का राजनीतिक एजेंडा सेट कर रहे हैं।

कुमार ने आगे कहा कि 23 सीट पर चुनाव लड़ने वाली पार्टी राजद के नेता इतना भी नहीं कर सके कि अपनी सहयोगी पार्टियों के नेताओं को इस मौके पर बुलाकर बगल में बैठा लेते।

उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि संतरा खा रहे हैं और छिलका सहयोगी को दे रहे हैं और छिलके का रस अपनी आंख में डाल रहे हैं।

लोजपा ( रामविलास) के प्रमुख चिराग पासवान ने कहा कि बिहार की जनता जानती है कि राजद के लोग किस तरीके से नौकरी देते हैं। उन्होंने कहा कि अच्छी बात है कि तेजस्वी नौकरी की बात कर रहे हैं, लेकिन उनको यह बताना चाहिए कि यदि यह लोग सही मायने में एक करोड़ लोगों को नौकरी दे सकते हैं तो एक लंबे समय तक इन्हीं के परिवार के लोग सत्ता में रहे हैं, क्यों नहीं दिया। इतना ही नहीं, यह बात तो हर कोई जानता है कि इन लोगों ने कैसे लोगों को नौकरियां दी हैं।

इधर, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के संरक्षक और गया से प्रत्याशी जीतन राम मांझी ने राजद के घोषणा पत्र की खिल्ली उड़ाते हुए एक्स पर लिखा कि इसमें शायद कुछ बातें छूट गई हैं, जो निम्नलिखित है…भारत में अमेरिका का विलय करेंगे, सूरज पश्चिम से उगाएंगे, समुद्र के पानी को मीठा बना देंगें, पहाड़ हवा में उड़ेगा। अब जब तेजस्वी यादव को पता है कि उनकी सरकार बन ही नहीं रही तो वह कुछ भी घोषणा कर सकते हैं।

राजद ने अपने घोषणापत्र में एक करोड़ लोगों को नौकरी देने की बात कही है, साथ ही रोजगार, किसानों, महिलाओं के लिए भी कई वादे किए गए हैं।

बता दें कि 2019 के चुनाव में राजद को लोकसभा में एक भी सीट नहीं आई थी।

–आईएएनएस

एमएनपी/एसकेपी

E-Magazine