गुजरात के बाहर हमारा सबसे बड़ा निवेश यूपी में होगा : करण अदाणी

[ad_1]

लखनऊ, 10 मार्च (आईएएनएस)। अदाणी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक जोन लिमिटेड के प्रबंध निदेशक करण अदाणी का कहना है कि अदाणी समूह गुजरात के बाहर अपना सबसे बड़ा निवेश उत्तर प्रदेश में करेगा।

करण अदाणी ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा, “चौधरी चरण सिंह अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे (सीसीएसआईए) के लिए हमारा दृष्टिकोण बड़ा और दूरगामी है। मास्टर प्लान का लक्ष्य 2047-48 तक सालाना 3.8 करोड़ यात्रियों को सेवा प्रदान करने के लिए हवाईअड्डे की क्षमता का विस्तार करना है। इससे 50,000 से 60,000 व्यक्तियों के लिए रोजगार पैदा होगा।”

उन्‍होंने कहा, “यह तेजी से वृद्धि उत्तर प्रदेश की एक ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने की आकांक्षा का समर्थन करने की हमारी रणनीति की आधारशिला है। हम सिर्फ बुनियादी ढांचे का निर्माण नहीं कर रहे हैं, हम 13,000 से ज्‍यादा प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रोजगार के अवसर पैदा कर रहे हैं, इस तरह क्षेत्र और राज्य की आर्थिक उन्नति में महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं।”

करण अदाणी ने कहा कि अदाणी समूह उत्तर प्रदेश में सड़क, सीमेंट, डेटा क्षेत्र, बिजली और नवीकरणीय ऊर्जा में निवेश करना चाहता है, जिससे यह गुजरात के बाहर उनकी कंपनी का सबसे बड़ा निवेश होगा।

पूरी होने वाली परियोजनाओं के बारे में उन्होंने कहा कि गंगा एक्सप्रेसवे इस साल के अंत तक पूरा होने की संभावना है, जबकि नोएडा में डेटा सेंटर मार्च 2025 तक तैयार हो जाएगा।

सीसीएसआईए का नया टर्मिनल 24 घरेलू और 8 अंतर्राष्ट्रीय गंतव्यों को जोड़ता है, जिसमें यात्री सुविधा के लिए अत्याधुनिक सुविधाएं और विशेषताएं हैं।

इसके अलावा, 72 चेक-इन काउंटर (सेल्फ-बैगेज ड्रॉप के लिए 17 सहित) और 62 इमिग्रेशन काउंटर (27 उत्प्रवास और 35 आगमन इमिग्रेशन काउंटर) यात्रियों के तेज व सुचारु पारगमन को सुनिश्चित करेंगे और आधुनिक लाउंज उनकी सुविधा बढ़ाएंगे।

नवनिर्मित एप्रन यात्री बोर्डिंग गेटों को 7 से बढ़ाकर 13 और यात्री बोर्डिंग पुलों को 2 से बढ़ाकर 7 कर देगा। क्षमता वृद्धि से इसकी परिचालन दक्षता में काफी सुधार करने में मदद मिलेगी।

नया टर्मिनल डिजीयात्रा, आम-उपयोग वाले स्वयं-सेवा कियोस्क, स्वचालित ट्रे पुनर्प्राप्ति प्रणाली और उन्नत सामान स्क्रीनिंग मशीनों जैसी प्रौद्योगिकियों के साथ यात्रा को भी सरल बना देगा।

हवाईअड्डे पर प्रवेशद्वार से लेकर रोशनदान तक उत्तर प्रदेश की कला और वास्तुकला के साथ एक अनोखा दृश्य-श्रव्य अनुभव जीवंत हो गया है।

चेक-इन काउंटर ‘चिकनकारी’ और ‘मुकैश’ कढ़ाई के प्रबुद्ध रूपांकनों से यात्रियों को मंत्रमुग्ध कर देंगे।

फ्रॉस्टिंग पर ग्राफ़िक्स रामायण और महाभारत जैसे महाकाव्यों की कहानियों को दर्शाते हैं।

हवाईअड्डे में कई स्थिरता सुविधाएं और पुनर्चक्रण योग्य सामग्रियों की पर्याप्त तैनाती है। यह मेट्रो कनेक्टिविटी, इंटरसिटी इलेक्ट्रिक बस सेवा और ऐप-आधारित टैक्सी सेवाओं के साथ एक मल्टी-मॉडल ट्रैवल हब होगा।

–आईएएनएस

एसजीके/

[ad_2]

E-Magazine