गाजा में इजरायली हमले में भारतीय संयुक्त राष्ट्र कर्मचारी के मारे जाने के संकेतों के बीच गुटेरेस ने योगदान के लिए भारत की 'प्रशंसा' की (लीड-1)

संयुक्त राष्ट्र, 15 मई (आईएएनएस)। संयुक्त राष्ट्र में भारत के योगदान की सराहना करते हुए महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने गाजा पर किए गए एक हमले में सैनिक से संयुक्त राष्ट्र कर्मचारी बने वैभव अनिल काले की मौत पर राष्ट्र को “माफी” और “संवेदना” भेजी है। उनके प्रवक्ता फरहान हक ने मंगलवार को यह जानकारी दी।

संकेत हैं कि काले जिस वाहन से यात्रा कर रहे थे, उस पर सोमवार को इजरायली बलों ने गोलीबारी की थी।

हक ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र ने स्पष्ट रूप से चिह्नित संयुक्त राष्ट्र वाहन पर सोमवार के हमले की जिम्मेदारी निर्धारित करने के लिए एक तथ्य-खोज पैनल का गठन किया है, जिसमें संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा और संरक्षा विभाग (डीएसएस) के एक सुरक्षा समन्वयक काले यात्रा कर रहे थे।

उन्होंने कहा, ऐसा प्रतीत होता है कि वाहन पर किसी टैंक से गोलीबारी की गई है और घटना का विवरण अभी भी इजरायली रक्षा बलों के साथ सत्यापित किया जा रहा है।

उन्होंने इजरायल का नाम लिए बिना संकेत दिया कि यह हमला उसकी सेनाओं ने किया है।

जॉर्डन ने उस हमले के लिए इजरायल को दोषी ठहराया है, जिसमें देश की एक महिला घायल हो गई थी।

इजरायली रक्षा बलों ने कहा कि शुरुआती जांच के अनुसार, सोमवार का हमला एक सक्रिय युद्ध क्षेत्र में हुआ और उन्‍हें वाहन की आवाजाही के बारे में अवगत नहीं कराया गया।

संयुक्त राष्ट्र का झंडा लगे सफेद वाहन पर गाजा के राफा क्षेत्र में हमला किया गया था, जहां दस लाख से अधिक फिलिस्तीनी रहते हैं।

संयुक्त राष्ट्र और अंतर्राष्ट्रीय चेतावनियों को धता बताते हुए इजरायल ने हमास का पीछा करते हुए राफा में घुसपैठ शुरू कर दी है।

हक ने कहा, “हम भारत द्वारा (संयुक्त राष्ट्र में) किए गए योगदान की सराहना करते हैं और हम भारत की सरकार और लोगों के प्रति खेद और संवेदना भी व्यक्त करते हैं।”

काले उन 200 से अधिक भारतीयों की सूची में शामिल हो गए हैं जो संयुक्त राष्ट्र की सेवा में शहीद हुए हैं।

उनमें से अधिकांश 179 शांति रक्षक हैं, लेकिन कई अन्य भारतीय नागरिक, जो डीएसएस के कर्मचारियों की तरह शांति रक्षक नहीं हैं, संकटग्रस्त स्थानों पर विभिन्न क्षमताओं में संयुक्त राष्ट्र के लिए काम करते हुए मारे गए हैं।

संयुक्त राष्ट्र के एक सूत्र के अनुसार, काले सेवानिवृत्त भारतीय सेना कर्नल, दो किशोर बच्चों के 46 वर्षीय पिता थे। वह सेना से सेवानिवृत्त हुए थे और पिछले महीने संयुक्त राष्ट्र में शामिल हुए थे।

हक ने कहा कि काले गाजा में अक्टूबर में भड़के मौजूदा संघर्ष में मारा गया पहले गैर-फिलिस्तीनी थे।

उन्होंने कहा, गाजा में संयुक्त राष्ट्र के लिए 71 विदेशी काम कर रहे थे, लेकिन उन्हें राष्ट्रीयता के आधार पर कोई फर्क नहीं पड़ा।

हक ने कहा कि फिलिस्तीनियों के लिए मानवीय सेवाओं के लिए संयुक्त राष्ट्र की शाखा, संयुक्त राष्ट्र राहत और कार्य एजेंसी (यूएनआरडब्ल्यूए) के 188 फिलिस्तीनी कर्मचारी मारे गए हैं।

हक ने घोषणा की, “हम मारे गए सभी लोगों को मुआवजा दिलाने के लिए जमीनी स्तर पर अधिकारियों के साथ काम करेंगे।”

डीएसएस संयुक्त राष्ट्र प्रतिष्ठानों और कर्मियों को सुरक्षा प्रदान करता है और अक्सर दुनिया भर में युद्ध जैसी परिस्थितियों में काम करता है।

संयुक्त राष्ट्र गाजा के लोगों को भोजन और मानवीय सहायता की आपूर्ति कर रहा है, जहां इजरायली हमलों में इसका बुनियादी ढांचा नष्ट हो गया है और संयुक्त राष्ट्र ने चेतावनी दी है कि अकाल आसन्न है। हक ने कहा कि काले का वाहन एक काफिले में था जो “अपने नियमित काम (जिसके लिए) वे सुरक्षा स्थितियों का आकलन करने के लिए विभिन्न स्थानों पर जाते हैं। और यह राफा में यूरोपीय अस्पताल था”।

गुटेरेस ने काले के वाहन पर हमले की निंदा की और युद्धविराम व हमास द्वारा बंधक बनाए गए बंधकों की रिहाई के लिए अपना आह्वान दोहराया।

–आईएएनएस

एसजीके/

E-Magazine