विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों का भारतीय बाजारों पर उत्साह बरकरार, 10 जून से अब तक 23,786 करोड़ रुपये का निवेश

नई दिल्ली, 22 जून (आईएएनएस)। उद्योग विश्लेषकों ने शनिवार को कहा कि नीति और सुधार की निरंतरता से उत्साहित विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने चुनाव परिणामों के बाद इक्विटी बाजार में अपनी स्थिति में परिवर्तन करते हुए 10 जून से अब तक 23,786 करोड़ रुपये का निवेश किया है।

इस सकारात्मकता के पीछे के तीन प्राथमिक कारण हैं।

मोजोपीएमएस के मुख्य निवेश अधिकारी सुनील दमानिया ने कहा ”सबसे पहले, सरकार निरंतर चल रहे सुधारों का आश्वासन दे रही है। दूसरा, चीनी अर्थव्यवस्था में गिरावट आ रही है, जैसा कि पिछले महीने में तांबे की कीमतों में 12 प्रतिशत की आई गिरावट से पता चलता है।”

तीसरा, बाजार में कुछ ब्लॉक डील्स को विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने उत्सुकता से लिया है।

दमानिया ने कहा, “हालांकि, इन विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने कुछ चुनिंदा शेयरों में निवेश किया है।”

जून तक एफपीआई ने 11,193 करोड़ रुपये की इक्विटी बेची।

बाजार विशेषज्ञों के अनुसार, यह दिलचस्प है कि यह आंकड़ा एक्सचेंजों के माध्यम से 45,794 करोड़ रुपये और ‘प्राथमिक बाजार और अन्य’ के माध्यम से 34,600 करोड़ रुपये की खरीदारी का है।

यह स्पष्ट है कि एफपीआई वहां बेचे जा रहे हैं जहां कीमत अधिक मिल रही है और जहां कीमत उचित नजर आ रही है वहां से खरीदारी कर रहे हैं।

इस बीच, चुनाव नतीजों पर अब धीरे-धीरे कम होती चिंता और दुनिया के नजरिए में हुए सुधार की वजह से भारतीय बाजार में शुरुआत में तेजी का रुख जारी रहा।

उन्होंने कहा कि गठबंधन सरकार के साथ, यह आशा भी है कि आगामी बजट विकास के पहल और लोकलुभावन उपायों के बीच संतुलन बनाएगा।

–आईएएनएस

जीकेटी/

E-Magazine