लोकसभा चुनाव से पहले RLD को पश्चिम यूपी में बड़ा झटका

लोकसभा चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश की सियासत में आए दिन कुछ नया होता दिख रहा है। यहां नेताओं का पार्टियों के छोड़ने का सिलसिला थमता नजर नहीं आ रहा है। इसी कर्म में अब राष्ट्रीय लोक दल के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शाहिद सिद्दीकी ने जयंत और NDA के गठबंधन को बड़ा झटका दिया है। खबर है कि सोमवार यानी 1 अप्रैल को शाहिद ने पार्टी में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया है। बता दें, सिद्दीकी आरएलडी के बीजेपी के साथ गठबंधन को लेकर लगातार विरोध में थे। जिसके बाद आज उन्होंने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जायँ चौधरी को अपना इस्तीफा सौंपा है।

इस दौरान उन्होंने सोशल मीडिया प्लेटफार्म X (पूर्व में ट्विटर) पर एक के बाद एक तीन पोस्ट करते हुए अपने इस्तीफे के पीछे का कारण भी बताया है। उन्होंने पोस्ट में लिखा कि, मैं ने अपना त्यागपत्र राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष माननीय @jayantrld जी को भेज दिया है। मैं ख़ामोशी से देश के लोकतांत्रिक ढांचे को समाप्त होते नहीं देख सकता । मैं जयंत सिंह जी और आरएलडी मैं अपने साथियों का आभारी हूँ। धन्यवाद…”

उन्होंने जयंत चौधरी को भेजी अपनी चिट्ठी में कहा, “हमने 6 वर्षों तक एक साथ काम किया है और एक-दूसरे का सम्मान करते हैं। मैं, एक तरह से, आपको एक सहकर्मी से अधिक एक छोटे भाई के रूप में देखता हूँ। हम महत्वपूर्ण मुद्दों पर और विभिन्न समुदायों के बीच भाईचारे और सम्मान का माहौल बनाने में कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हुए हैं। धर्मनिरपेक्षता और हम दोनों जिन संवैधानिक मूल्यों को संजोते हैं, उनके प्रति आपकी प्रतिबद्धता पर कोई संदेह नहीं कर सकता। आपके दिवंगत दादा, भारत रत्न चौधरी चरण सिंह जी, आपके दिवंगत पिता अजीत सिंह जी और आपके समय से – आप सभी, और वास्तव में आपके द्वारा बनाई गई पार्टी इन मूल्यों के लिए खड़ी रही है।”

शहीद ने आगे लिखा कि, “हालांकि अब रालोद के एनडीए का हिस्सा बनने से मैं असमंजस में पड़ गया हूँ। मैंने अपने दिल और दिमाग में लंबा और कठिन संघर्ष किया है, लेकिन खुद को भाजपा के नेतृत्व वाले गठबंधन से जुड़ने में असमर्थ पाता हूं। मैं आपकी राजनीतिक मजबूरियों से अवगत हूं और आपको अन्यथा सलाह देने की स्थिति में नहीं हूं। लेकिन अपनी बात करूं तो मैं खुद को इस चल रहे अभियान से और वास्तव में आरएलडी से अलग करने के लिए बाध्य हूं। आपके प्रति अपना सम्मान बनाए रखते हुए और वास्तव में आपके स्नेह और रालोद के साथ अपने जुड़ाव के लिए आभारी हूं, मैं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के अपने पद से इस्तीफा दे रहा हूं। कृपया मेरा इस्तीफा स्वीकार करें. हमेशा की तरह, मैं आगामी चुनावों के लिए आप सभी को शुभकामनाएं देता हूं।”

इस पोस्ट के बाद उन्होंने अपना आखिरी पोस्ट करते हुए लिखा कि, “कल मैं ने राष्ट्रीय लोक दल की सदस्यता और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष की पोस्ट से अपना त्यागपत्र राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जयंत सिंह जी को भेज दिया है। आज जब भारत के संविधान और लोकतांत्रिक ढांचा खतरे में है खामोश रहना पाप है। मैं जयंत जी का आभारी हूँ पर भारी मन से आरएलडी से दूरी बनाने के लिए मजबूर हूँ। भारत की एकता, अखंडता विकास और भाईचारा सर्वप्रिय है। इसे बचाना हर नागरिक की जिम्मेदारी और धर्म है।”

E-Magazine