यूपी की 13 लोकसभा सीटों के लिए औसतन 58 प्रतिशत हुआ मतदान

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में लोकसभा चुनाव के चौथे चरण के तहत 13 सीटों पर शाम छह बजे तक औसतन 58.09 प्रतिशत मतदान हुआ। लोकसभा चुनाव के चौथे चरण के तहत प्रदेश की 13 सीट और एक विधानसभा सीट के उपचुनाव के लिए मतदान सोमवार सुबह सात बजे शुरू हुआ था। शाम छह बजे तक जो भी मतदाता मतदान केन्द्र में दाखिल हुए उन सभी को वोट डालने दिया गया। प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी नवदीप रिणवा ने बताया कि लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में प्रदेश के 13 लोक सभा निर्वाचन क्षेत्रों और ददरौल विधानसभा क्षेत्र में उप चुनाव के लिए मतदान शांतिपूर्वक संपन्न हुआ।

सबसे ज्यादा मतदान खीरी में हुआ
उन्होंने बताया कि चौथे चरण की 13 लोकसभा सीटों में जनपदों से प्राप्त जानकारी के अनुसार शाम छह बजे तक औसतन 58.09 प्रतिशत मतदान हुआ है। मतदान प्रतिशत में कुछ बदलाव संभव है, जिसे वोटर टर्नआउट एप पर देखा जा सकता है। रिणवा ने बताया कि सबसे ज्यादा मतदान खीरी में 64.73 प्रतिशत और सबसे कम मतदान कानपुर में 53.06 प्रतिशत हुआ है। इसके अलावा धौरहरा में 64.45 प्रतिशत, सीतापुर में 61.91 प्रतिशत, कन्नौज में 61 प्रतिशत, शाहजहांपुर में 53.24 प्रतिशत, उन्नाव में 55.44 प्रतिशत, मिश्रिख में 55.79 प्रतिशत, इटावा में 56.38 प्रतिशत, बहराइच में 57.45 प्रतिशत, अकबरपुर में 57.66 प्रतिशत और ददरौल विधानसभा उपचुनाव में 53.31 प्रतिशत मतदान हुआ। उन्होंने बताया कि 2019 में इन 13 लोकसभा क्षेत्रों में कुल 58.75 प्रतिशत मतदान हुआ था। उन्होंने बताया कि इस बार इन 13 में से पांच से छह लोकसभा क्षेत्र ऐसे हैं, जहां पिछली बार की तुलना में मतदान प्रतिशत बढ़ा है। चौथे चरण के तहत 13 लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों के लिए 130 प्रत्याशियों का चुनावी भाग्य इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीनों में बंद हो गया।

कन्नौज सीट पर सभी सभी की नजर 
रिणवा ने बताया इस चरण में दो करोड़ 46 लाख से अधिक मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकते थे। इस चरण में चुनाव में कन्नौज सीट पर खास नजर है, जहां से समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव चुनाव लड़ रहे हैं। इसके अलावा खीरी लोकसभा सीट पर केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी की प्रतिष्ठा दांव पर है। कन्नौज से मिली खबर के मुताबिक सपा प्रमुख अखिलेश कई बूथों पर मतदान में धांधली की शिकायत मिलने पर कन्नौज पहुंचे और भाजपा पर निशाना साधा। उन्होंने कहा, ”मेरे आते ही गुंडे बूथों से भाग गए और बिल में घुस गए।” सौरिख से छिबरामऊ पहुंचे अखिलेश ने कहा, ”बेईमानी की शिकायत मिल रही थी और बूथों पर मतदान को बाधित किया जा रहा था लेकिन लोकतंत्र में यह अच्छा है कि कन्नौज की जनता बेईमानी के बाद भी स्वयं वोट डालने जा रही है। यहां चुनाव अच्छा चल रहा है।” उन्होंने आरोप लगाया कि बूथ संख्या दो, तीन, चार और पांच पर भाजपा के कार्यकर्ताओं ने ड्यूटी में तैनात पुलिसकर्मी को धमकी भी दी। उधर, भाजपा की उत्तर प्रदेश इकाई ने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर लिखा,”सपाई गुंडों के सामने पुलिस-प्रशासन नतमस्तक 42-कन्नौज लोकसभा। विधानसभा विधूना के बूथ नंबर 80, 81, 91, 94, 102, 161 व 172 पर सपा के रेड कार्ड होल्डर, अपराधी, माफिया भाजपा के मतदाताओं को वोट नहीं डालने दे रहे हैं। बूथों पर सपाई गुंडों के साथ मिलकर पीठासीन अधिकारी और पुलिस के लोग बूथ कैप्चरिंग कर रहे हैं। निर्वाचन आयोग घटना का शीघ्र संज्ञान लेकर उचित कार्यवाही करे।’

“बहराइच में पहला वोट दिव्यांग मतदाता ने डाला
एटा जनपद की अलीगंज तहसील के फर्रुखाबाद लोक सभा क्षेत्र के गौतम बुद्ध इंटर कॉलेज तहसील अलीगंज में आज मतदान के अवसर पर जिलाधिकारी प्रेम रंजन सिंह मतदान के लिये आई एक बुजुर्ग महिला को खुद व्हील चेयर पर बैठाकर मतदान कराने ले गये। उनके साथ वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार सिंह भी मौजूद थे। बहराइच सीट पर पहला वोट दिव्यांग मतदाता से डलवाकर मतदान की शुरुआत की गयी। जिला निर्वाचन अधिकारी मोनिका रानी ने बताया कि “बहराइच का पहला वोट दिव्यांग मतदाता ने डाला। उसके बाद हम सभी प्रशासनिक अधिकारियों ने अपने मताधिकार का उपयोग किया।” लखीमपुर खीरी से मिली जानकारी के अनुसार बारिश के बावजूद सुबह से ही मतदाताओं में मतदान के लिये खासा उत्साह देखा गया। प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी नवदीप रिणवा ने बताया कि इस चरण में मतदान के लिए कुल 16 हजार 334 मतदान केंद्र और 26 हजार 588 मतदेय स्थल बनाए गये थे । मतदान के लिए 33,149 ईवीएम की कन्ट्रोल यूनिट, 33,149 बैलट यूनिट तथा 35,644 वीवीपैट मशीन की व्यवस्था की गई थी। उन्होंने कहा कि मतदान के दौरान जहां कहीं भी शिकायत प्राप्त हुई हैं, वहां तत्काल प्रभावी कार्रवाई करते हुए ईवीएम एवं वीवीपैट को बदलने की कार्यवाही की गई है।

E-Magazine