आपकी फुटबॉल कैद में है, बेहतर होने में कई दशक लगेंगे : स्टिमैक

नई दिल्ली, 21 जून (आईएएनएस)। भारतीय सीनियर फुटबॉल टीम के प्रमुख कोच पद से बर्खास्त किये गए इगोर स्टिमैक ने शुक्रवार को मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय टीम की हाल की विफलता के लिए अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) जिम्मेदार है।

स्टिमैक ने एक वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, “मैं भारतीय फुटबॉल के लिए खुले दिल से आया था। लेकिन आपकी फुटबॉल कैद में है। चीजों को बेहतर होने में कुछ दशक लगेंगे, जो मुझे होता नहीं दिख रहा है। एआईएफएफ के लोग नहीं जानते कि फुटबॉल हाउस कैसे चलाया जाता है, वे नहीं जानते कि कप का आयोजन कैसे किया जाता है। इन लोगों को केवल सत्ता की परवाह है।”

पूर्व क्रोएशियाई सेंटर-बैक 2019 में टीम में शामिल हुए और उन्हें फीफा रैंकिंग के शीर्ष 100 में पहली बार पहुंचाया। उन्होंने हाल ही में खराब किस्मत के बारे में भी बात की जिसमें फीफा विश्व कप क्वालीफायर में कतर द्वारा किया गया विवादास्पद गोल भी शामिल था। स्टिमैक ने कहा, “अगर हम किंग्स कप में, मर्डेका में मलेशिया के खिलाफ और अंत में कतर के खिलाफ नहीं हारे होते, तो हमारी टीम अभी भी शीर्ष 100 में होती और राउंड 3 में पहुंच जाती।”

पूर्व मैनेजर अब अपने भविष्य के बारे में निर्णय लेंगे, यूरोपीय चैम्पियनशिप के समापन के बाद उन्हें इस पर अधिक स्पष्टता मिलेगी। इसके बाद उन्होंने खुलासा किया कि बोर्ड के साथ एक बैठक के बाद उन्हें हार्ट सर्जरी करानी पड़ी, जिसमें उन्होंने एशिया कप पर क्वालीफायर को प्राथमिकता देने के महत्व को समझाने की कोशिश की।

“जब मैंने उन्हें बताया कि विश्व कप क्वालीफायर एशिया कप से अधिक महत्वपूर्ण थे। मुझे एआईएफएफ से अंतिम चेतावनी मिली। जब मुझे 2 दिसंबर को अंतिम चेतावनी मिली। यह कोई नहीं जानता था, मैं अस्पताल में था।

स्टिमैक ने निष्कर्ष निकाला, “जो कुछ भी हो रहा था मैं उससे परेशान था; स्पष्ट समस्याओं से तनावग्रस्त था। मेरे दिल की तत्काल सर्जरी हुई थी। मैं किसी से बात करने या बहाने ढूंढने के लिए तैयार नहीं था। मैं अपनी टीम को एशिया कप के लिए तैयार करने के लिए खुद को लाइन में लगाने को तैयार था ताकि वह सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर सके।”

–आईएएनएस

आरआर/

E-Magazine