वाराणसी: चार घंटे की बिजली कटौती, रिकॉर्ड में सिर्फ 20 मिनट ही दर्ज

बिजली निगम के अधिकारी मुख्यालय को बिजली कटौती की सही रिपोर्ट नहीं दे रहे हैं। दिन में चार से पांच घंटे की कटौती की जा रही है लेकिन उपकेंद्रों पर सिर्फ 20-25 मिनट की कटौती दर्ज की जा रही है। ओवरलोडिंग की वजह से उपकेंद्र के फीडर से रोस्टर लागू कर बिजली कटौती की जा रही है।

शुक्रवार को भदैनी उपकेंद्र से आधे-आधे घंटे तक आठ बार बिजली कटौती हुई। शिवाला में पोल में आई गड़बड़ी की वजह से सुबह 9 बजे से 11 बजे तक कटौती की गई लेकिन उपकेंद्र के अधिकारियों ने दावा किया कि कहीं कोई फीडर बंद नहीं है। लगातार बिजली आपूर्ति की जा रही है। 

शिवाला निवासी दीपक शर्मा ने बताया कि बिजली आने जाने का कोई समय नहीं है। रात में 12 बजने के बाद जो कटौती शुरू होती है वह सुबह तक जारी रहती है।

नगवां उपकेंद्र से संबंधित सामनेघाट क्षेत्र में ट्रांसफार्मर का जंफर टूटने की वजह से धनवंतरि नगर में सुबह 11 बजे से दोपहर तीन बजे तक बिजली आपूर्ति बाधित रही। क्षेत्रवासी अवनीश ने बताया कि फाल्ट होने पर कम से कम दो घंटे तक बिजली आपूर्ति बाधित रहती है। 

मुख्य अभियंता एके सिंघल ने बताया कि बारिश की वजह से बिजली आपूर्ति बाधित हो रही है। इससे निपटने के प्रयास किए जा रहे हैं। कहा कि जिले में चौबीस घंटे आपूर्ति हो रही है लेकिन ओवरलोडिंग की वजह से तार और जंफर टूटने के कारण बिजली बाधित हो रही है।

बारिश से पहले पॉलिथीन से ढंके जाएंगे बिजली के बाक्स
बारिश से पहले बिजली के बाॅक्स पॉलिथीन से कवर किए जाएंगे। अधिकारियों के मुताबिक सात फुट ऊंचाई तक बिजली के पोल और बाॅक्स को कवर किया जाएगा। बारिश के समय विद्युत पोल में करंट उतरने की वजह से कई घटनाएं हो जाती हैं। 

इसी सप्ताह हुई मानसून की पहली बारिश में डाफी और मकबूल आलम रोड पर बिजली के खंभे में करंट उतरने से मवेशी की मौत हो गई थी। बिजली निगम यह तैयारी सावन में कांवर यात्रा को ध्यान में रखते हुए भी की है। काशी के कांवरिया मांर्ग के सथ पोल, बॉक्स और ट्रांसफार्मर के आसपास सुरक्षा घेरा बनाकर कवर किया गया जाएगा। 22 जुलाई से कांवर यात्रा शुरू होगी।

बिजली के पोल पर गिरा पेड़, आठ घंटे बिजली ठप
वाराणसी। टकटकपुर क्षेत्र के डाॅक्टर्स काॅलोनी बाउंड्री में लगा पेड़ शुक्रवार शाम बिजली के पोल पर गिर गया। इस वजह से क्षेत्र की बिजली आपूर्ति आठ घंटे बाधित रही। पेड़ की चपेट में आने से एक रागीर भी घायल हो गया जिसे क्षेत्रीय लोगों ने अस्पताल भेजा। 

सड़क पर पेड़ गिरने की वजह से करीब दो घंटे तक लोंगो की आवाजाही प्रभावित रही। एसडीओ बाड़ालालपुर ने बताया कि पोल ठीक करने के बाद तार जोड़ दिया गया है। रात करीब साढ़े दस बजे तक क्षेत्र में बिजली आपूर्ति बहाल कर दी गई। पेड़ गिरने की वजह से टकटकपुर, गायत्री नगर, पार्वती नगर, शिव नगर, छत्रधारि नगर, महादेव नगर और पांडेयपुर की करीब 15 हजार से अधिक बिजली गुल रही। इस वजह से शाम को जलापूर्ति भी नहीं हो सकी। 

E-Magazine