‘महाराज’ के रिलीज होने पर सिद्धार्थ पी मल्होत्रा ने लिखा नोट

आमिर खान के बेटे जुनैद खान की फिल्म ‘महाराज’ नेटफ्लिक्स पर रिलीज हो चुकी है। कोर्ट द्वारा फिल्म को रिलीज करने की अनुमति दिए जाने के बाद महाराज के निर्देशक सिद्धार्थ पी मल्होत्रा ने सोशल मीडिया पर एक भावनात्मक नोट लिखा है।

बॉलीवुड के मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान के बेटे जुनैद खान की पहली फिल्म ‘महाराज’ नेटफ्लिक्स पर रिलीज हो चुकी है। इस फिल्म में जयदीप अहलावत के साथ जुनैद के अभिनय की भी जमकर सराहना हो रही है। यह फिल्म पहले 14 जून को रिलीज होनी थी, लेकिन गुजरात हाईकोर्ट की रोक के बाद रिलीज नहीं हो पाई थी। इस फिल्म ने 21 जून को ओटीटी पर दस्तक दी है। कोर्ट द्वारा फिल्म को रिलीज करने की अनुमति दिए जाने के बाद महाराज के निर्देशक सिद्धार्थ पी मल्होत्रा ने सोशल मीडिया पर एक भावनात्मक नोट लिखा है।

सिद्धार्थ पी मल्होत्रा ने लिखा भावनात्मक नोट
महाराज के निर्देशक सिद्धार्थ पी मल्होत्रा ने सोशल मीडिया पर एक नोट साझा कर फिल्म को प्यार का श्रम बताया और कहा कि यात्रा में आने वाली बाधाएं इसके लायक थीं। उन्होंने लिखा, ‘प्यार से की गई मेहनत का जश्न मनाया जाना चाहिए और इसकी घोषणा उत्साह के साथ की जानी चाहिए। मगर जब आप एक ऐसी कहानी बताना चुनते हैं, जिसे सभी बाधाओं के बावजूद बताया जाना चाहिए, तो लड़ाई कठिन होगी लेकिन उम्मीद है कि दर्द और बाधाओं के लायक होगी क्योंकि हम एक टीम के रूप में अपनी बनाई फिल्म ‘महाराज’ पर बहुत गर्व करते हैं।’

हिचकी के बाद बतौर निर्देशक रिलीज हुई सिद्धार्थ की फिल्म
सिद्धार्थ पी मल्होत्रा ने लिखा, ‘आखिरकार हिचकी के बाद बतौर निर्देशक मेरी फिल्म रिलीज हो गई है। यह आमिर खान सर के बेटे जुनैद की पहली फिल्म है, जिसमें जयदीप अहलावत और महाराज की भूमिका में दो अद्भुत महिलाएं शालिनी पांडे और शरवरी हैं। कुछ बेहतरीन अभिनेताओं का समर्थन प्राप्त है, जो अपने काम में माहिर हैं। फिल्म आखिरकार लाइव हो गई है।’ गुजरात उच्च न्यायालय द्वारा जुनैद खान की पहली फिल्म ‘महाराज’ की रिलीज पर लगी रोक हटाने के बाद यशराज फिल्म्स ने भी एक आधिकारिक बयान जारी किया।

न्यायपालिका का जताया आभार
निर्माताओं ने न्यायपालिका के प्रति आभार व्यक्त किया और लिखा कि कैसे यह फिल्म हमारे देश के सबसे महत्वपूर्ण समाज सुधारकों में से एक करसनदास मुलजी का जश्न मनाती है। मेकर्स ने कहा, ‘महाराज की रिलीज की अनुमति देने के लिए हम न्यायपालिका के आभारी हैं। यह फिल्म हमारे देश के सबसे महत्वपूर्ण समाज सुधारकों में से एक करसनदास मुलजी का जश्न मनाती है। करसनदास एक नायक और एक समर्पित वैष्णव थे, जो धार्मिकता के लिए खड़े हुए, महिलाओं की रक्षा की और अपने समुदाय और आस्था की रक्षा की। महाराज उनकी अदम्य लड़ाकू भावना और इतिहास के सही पक्ष में रहने के उनके साहस के लिए एक श्रद्धांजलि है।’

E-Magazine