अपने ऊपर लगे भ्रष्टाचार के आरोप पर संजीव बालियान ने अमित शाह को लिखी चिट्ठी

नई दिल्ली, 22 (आईएएनएस)। पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता संजीव बालियान ने शनिवार को गृह मंत्री अमित शाह को खत लिखा। इसमें उन्होंने गृह मंत्री से अपने खिलाफ लगाए गए आरोपों की सीबीआई या अन्य किसी उच्च स्तरीय संस्था से जांच करने की मांग की। संजीव बालियान ने अपने ऊपर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों को निराधार बताया है।

दरअसल, भाजपा के पूर्व विधायक संगीत सोम के कथित लेटर हेड पर एक पत्र वायरल हुआ था, जिसमें पूर्व केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान पर विदेशों में जमीन की खरीद-फरोख्त के गंभीर आरोप लगाए गए थे। इसी के जवाब में संजीव बालियान ने गृह मंत्री अमित शाह को चिट्ठी लिखी है और पूर्व विधायक संगीत सोम द्वारा लगाए गए आरोपों की निष्पक्ष जांच की मांग की है।

उन्होंने लिखा, ”नरेंद्र मोदी के लगातार तीसरी बार विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र के प्रधानमंत्री चुने जाने पर आपको हार्दिक बधाई। यह विजय प्रधानमंत्री के आदर्शों एवं सांस्कृतिक व सामाजिक मूल्यों के प्रति उनकी सत्यनिष्ठा, देश को विश्व में सर्वोच्च स्थान पर ले जाने हेतु उनकी कर्तव्यनिष्ठा, शोषित वर्गों व माताओं-बहनों के उत्थान के प्रति उनके निरंतर प्रयासों एवं युवाओं के स्वर्णिम भविष्य के प्रति उनके समर्पण की ही परिचायक है। विकास की इस महायात्रा में आपके साथ चलने का सौभाग्य मुझे भी मिला, इसके लिए मैं सदैव ऋणी व आभारी रहूंगा। जैसा कि आपको विदित है कि मैं विगत 10 वर्षों से पश्चिम उत्तर प्रदेश के उस मुजफ्फरनगर क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करता आया हूं जहां पर वर्ष 2014 से पूर्व अपहरण, लूट, फिरौती, रंगदारी, हत्या आदि की खबरों से समाचार पत्र रंगे रहते थे। जहां मेरठ से रुड़की के बीच सायं के समय के बाद यात्रियों को अपने वाहन को रोकने में भी भय लगता था।

संजीव बालियान ने लिखा, ”प्रधानमंत्री मोदी के विकास के मंत्र ने मुझे उस भयमुक्त मुजफ्फरनगर को विकास की ओर ले जाने की प्रेरणा दी। पीएम मोदी की प्रेरणा से ही उस क्षेत्र में आज देश की सबसे बडी काउ सेंचुरी बनकर तैयार है और उसका संचालन समाज के सहयोग से ही किया जा रहा है। आज जहां उसी मुजफ्फरनगर में बड़े-बड़े हाईवे है, वहीं उसी मेरठ और रुड़की के मध्य यात्रियों के रुकने के लिए सर्वाधिक मिडवेज हैं। देश की आजादी के बाद से 2014 तक मुजफ्फरनगर के विकास के लिए जो न हो सका वो विगत 10 वर्षों में उनके सहयोग और उनकी प्रेरणा से किए गए कार्यों के कारण हो पाया है, जिसके लिए मैं अपने हृदय की गहराइयों से साधुवाद अर्पित करता हूं। प्रधानमंत्री मोदी सदैव स्वच्छ राजनीति के प्रतिबिंब रहे हैं और उनके इन्हीं आदर्शों से प्रेरणा लेकर मेरे द्वारा भी सदैव इसी पथ पर चलने का प्रयत्न किया गया है।”

उन्होंने आगे लिखा, ”हाल के दिनों में मीडिया के माध्यम से एक महत्वपूर्ण बात प्रकाश में आई है। पश्चिम उत्तर प्रदेश के एक पूर्व विधायक के लेटर हेड पर एक पत्र पत्रकारों को वितरित किया गया जिसमें मुझ पर भ्रष्टाचार के निराधार आरोप लगाए गए। मैं उसमें लगाए गए सभी आरोपों का खंडन करता हूं और क्योंकि मैं प्रधानमंत्री मोदी की विगत दोनों सरकारों में मंत्री रहा हूं, इसलिए मुझ पर लगाए गए ऐसे आरोपों की निष्पक्ष जांच कराना मेरा दायित्व बनता है। अतः मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि उन सभी आरोपों की सीबीआई से या अन्य किसी उच्च स्तरीय संस्था से जांच कराई जाए, ताकि मुझ पर लगाए गए उन सभी आरोपों की सच्चाई देश के समक्ष आ सके और इसके पीछे के षडयंत्रकारियों का चेहरा भी बेनकाब हो सके। मैं विश्वास दिलाता हूं कि 10 वर्षों के कार्यकाल में मेरे द्वारा कोई भी ऐसा कार्य नहीं किया गया है, जिसके कारण मुझे सिर झुकाना पडे।”

–आईएएनएस

एसके/एसकेपी

E-Magazine