लोकसभा चुनाव: 13 मई को 5 KM का होगा नरेंद्र मोदी का रोड शो

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 13 मई को शहर में पांच किलोमीटर लंबा रोड शो करेंगे। रोड शो का रूट तय हो गया है। वह लंका स्थित बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के बाहर महामना मदन मोहन मालवीय की प्रतिमा पर माल्यार्पण करेंगे। इसके बाद अस्सी के रास्ते से सोनारपुरा, जंगमबाड़ी, गोदौलिया, बांसफाटक होते हुए बाबा विश्वनाथ कॉरिडोर से मंदिर तक पहुंचेंगे। मंदिर में दर्शन-पूजन करेंगे। पीएम मोदी 14 मई को वाराणसी संसदीय सीट के लिए तीसरी बार नामांकन पत्र भी दाखिल करेंगे।

यह तीसरा मौका होगा, जब पीएम नरेंद्र मोदी नामांकन से पहले रोड शो करेंगे। इससे पहले 2014 और 2019 में भी रोड शो किया था। हर बार पंडित मदन मोहन मालवीय की प्रतिमा पर माल्यार्पण करते हैं। भाजपा नेताओं के मुताबिक, रोड शो शाम करीब पांच बजे के बाद शुरू होने की संभावना है। करीब चार घंटे में पांच किमी का सफर तय होगा। रोड शो के रूट को दस ब्लॉक में बांटा जाएगा।

इन सभी ब्लॉक पर विधायकों, एमएलसी, की ड्यूटी लगाई जाएगी। फिर इन्हीं विधायकों की जिम्मेदारी होगी कि उनके ब्लॉक में कहीं कोई दिक्कत न हो और रोड शो के दौरान स्वागत भव्य रहे। यह विधायक अपने नीचे एक टीम बनाकर जिम्मेदारी तय करेंगे। इसमें फूल माला, संस्थाओं के अलावा घरों से स्वागत और पेयजल समेत अन्य व्यवस्थाओं की जिम्मेदारी भी कार्यकर्ताओं पर रहेगी।

दूसरी बार इस रूट पर रोड शो

इस बार भी 2019 वाले रूट पर रोड शो होगा, जो अस्सी के रास्ते सोनारपुरा, जंगमबाड़ी, गोदौलिया, बांसफाटक होते हुए बाबा विश्वनाथ कॉरिडोर से मंदिर तक गया था।

2014 के रोड शो का रूट अलग था
2014 में पीएम नरेंद्र मोदी के रोड शो का रूट बदला था। तब पीएम हेलिकॉप्टर बीएचयू पहुंचे थे। वहां से निकलर महामना मदन मोहनमालवीय की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया था। इसके बाद हेलीकॉप्टर से काशी विद्यापीठ पहुंचे। विद्यापीठ से मलदहिया चौराहा स्थित सरदार वल्लभभाई पटेल की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। यहां से उनका जुलूस कलेक्ट्रेट तक पहुंचा था।

संगठन, समाज और संस्थाओं की भागीदारी

प्रधानमंत्री के रोड शो को ऐतिहासिक बनाने के लिए भाजपा की क्षेत्रीय, जिला और महानगर इकाई की मंगलवार को बैठक भी हुई। साथ ही जनसंपर्क शुरु कर दिया गया। रूट पर कहां-कहां स्वागत होना है, इसे तय किया जा रहा है। स्वागत करने वाले संगठन, समाज और संस्थाओं का नाम भी फाइनल हो रहा है। शहर की कई संस्थाओं से संपर्क भी साधना शुरु कर दिया है। इन संस्थाओं के लिए स्थान चिन्ह्त किए जा रहे हैं कि कौन कहां स्वागत करेगा। सबकी जिम्मेदारी भी तय कर दी गई है।

युवा मोर्चा, महिला मोर्चा की होगी प्रमुख जिम्मेदारी
प्रधानमंत्री के रोड शो में युवा मोर्चा और महिला मोर्चा की भूमिका अहम रहेगी। युवा मोर्चा की टीम अलग अलग स्थानों पर बाइकों के साथ मौजूद रहेगी। इसके अलावा महिला मोर्चा की टीम शक्ति केंद्रों के माध्यम से महिलाओं के संपर्क में है। लक्ष्य है कि रोड शाे में शामिल होने वाले लोगों में महिलाओं की भागीदारी दिखाई दे।

E-Magazine