गोरखपुर: तेज हवा के चलते बिजली काटने से फैक्टरियों को नुकसान, घंटों हो रही कटौती

तेज पछुआ हवा के कारण बार-बार बिजली काटने से फैक्टरियों को नुकसान उठाना पड़ रहा है। इससे उत्पादन पर भी असर पड़ रहा है। इस मामले में तीन दिनों से उद्यमी अपने सोशल मीडिया ग्रुप में परेशानी शेयर कर रहे हैं, लेकिन बिजली निगम उनकी समस्याओं का समाधान नहीं कर पा रहा है।

इंडस्ट्रियल एरिया विकासनगर व गोरखनाथ में करीब 60 फैक्टरियां हैं, जिनमें सात फ्लोर मिल और तीन प्लास्टिक फैक्टरियां शामिल हैं। इनमें अचानक आपूर्ति बंद होती है तो माल फंस जाता है। 60 से 100 श्रमिकों का हाथ एक साथ रुक है जिससे नुकसान होता है।

उद्यमियों का कहना है कि इंडस्ट्रियल फीडर को 24 घंटे आपूर्ति मिलनी चाहिए, लेकिन शनिवार को दोपहर 2:28 से शाम 5:40 बजे तक छह बार बिजली कटी। जबकि एक दिन पहले शुक्रवार को दोपहर 12:10 से शाम 7:42 बजे तक नौ बार बिजली आपूर्ति बंद हुई थी। बार-बार कटौती के कारण उद्यमी फैक्ट्री में कार्य रोक नहीं सकते हैं, क्याेंकि श्रमिकों को वेतन और मांग के अनुसार आपूर्ति देना उनकी चुनौती है।

उद्यमी राजकुमार जालान ने बताया कि फ्लोर मिल चलने के दौरान अचानक बिजली गुल हो जाती है तो माल रोल में फंस जाता है। इससे माल जम जाता है तो उसकी सफाई करनी पड़ती है। एक घंटे में पांच टन उत्पादन होता है, लेकिन अचानक आपूर्ति बंद हुई तो इसमें चार टन ही उत्पादन होगा। बिजली निगम को भूमिगत केबल की सुविधा देनी चाहिए।

उद्यमी भोला जायसवाल ने बताया कि उद्यमियों ने फैक्टरी चलाने के लिए इंडस्ट्रि्यल फीडर से महंगी बिजली का कनेक्शन लिया है, लेकिन तेज हवा के कारण ट्रिपिंग से बार-बार बिजली कट रही है जिससे नुकसान हो रहा है। इंडस्ट्रि्यल फीडर के लिए भूमिगत केबल से आपूर्ति दी जानी चाहिए।

मुख्य अभियंता आशु कालिया ने बताया कि इंडस्ट्रि्यल फीडर को भूमिगत केबल से आपूर्ति देने की प्रक्रिया शुरू की गई है। इसके साथ उस एरिया में पांच एमवीए का एक और ट्रांसफार्मर लगाया जा रहा है। जल्द ही बिजली आपूर्ति व्यवस्था और बेहतर हो जाएगी।

राप्ती नगर में कट गई बिजली
गोरखपुर। विद्युत उपकेंद्र राप्तीनगर ओल्ड के अंतर्गत रामजानकी नगर फीडर की बिजली शनिवार को तेज हवा के कारण कटती रही। इसी प्रकार पादरी बाजार क्षेत्र में भी दोपहर में बिजली काटनी पड़ी। चौरीचौरा क्षेत्र के छावनी और मुंडेरा एवं गोला बाजार क्षेत्र में बिजली आपूर्ति प्रभावित हुई।

E-Magazine