विशेषज्ञों ने कैंसर की दवा ओलापरीब को वापस लेने के लिए डीसीजीआई का किया समर्थन

नई दिल्ली, 23 मई (आईएएनएस)। डॉक्टरों (कैंसर विशेषज्ञ) ने सुरक्षा चिंताओं पर एस्ट्राजेनेका की कैंसर रोधी जेनेरिक दवा ओलापरीब को वापस लेने के लिए ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) के आदेश का समर्थन किया है।

ओलापरीब एक कीमोथेरेपी दवा है। इसका उपयोग अंडाशय, स्तन, पैंक्रियाज और प्रोस्टेट के कुछ प्रकार के कैंसर के इलाज के लिए किया जाता है।

16 मई को लिखे एक पत्र में डॉ. राजीव सिंह रघुवंशी, डीसीजीआई ने राज्य दवा नियामकों को लिखा कि वे एस्ट्राजेनेका की ओलपरीब टैबलेट (100 मिलीग्राम और 150 मिलीग्राम) का विपणन बंद कर दें, जो कि लिनपर्जा के रूप में बेची जाती हैं। कुछ रोगियों पर इसका संभावित प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार, इस दवा के कारण कुछ कैंसर रोगियों में जीवित रहने की दर कम हो जाती है।

डीसीजीआई का कदम एस्ट्राजेनेका फार्मा इंडिया के नैदानिक ​​अध्ययनों के बाद आया है, जिसमें विशिष्ट मामलों में इसे वापस लेने का भी समर्थन किया गया है।

एम्स दिल्ली में डॉ. बीआर अंबेडकर इंस्टीट्यूट रोटरी कैंसर हॉस्पिटल के रेडिएशन ऑन्कोलॉजी विभाग के सहायक प्रोफेसर डॉ. अभिषेक शंकर ने आईएएनएस को बताया, ”हानिकारक जर्मलाइन बीआरसीए उत्परिवर्तित उन्नत ओवेरियन कैंसर वाले रोगियों में मोनोथेरेपी के रूप में ओलापरीब के उपयोग को वापस लेने का यह निर्णय सही है, जिनका इलाज तीन या अधिक पूर्व कीमोथेरेपी से किया गया हो।”

ऑन्कोलॉजिस्ट ने नोट किया कि जो मरीज ओलापरीब ले रहे थे, उनमें ओलापरीब न लेने वाले मरीजों की तुलना में जीवित रहने की संभावना कम थी।

ओलापरीब को पहली बार डीसीजीआई द्वारा 2018 में जीबीआरसीए म्यूटेशन (स्तन कैंसर) और उन्नत ओवेरियन कैंसर वाले रोगियों के लिए अप्रूव किया गया था, खासकर उन लोगों के लिए जो कई कीमोथेरेपी उपचार से गुजर चुके हैं।

सर गंगा राम अस्पताल के मेडिकल ऑन्कोलॉजी के अध्यक्ष डॉ. श्याम अग्रवाल ने आईएएनएस को बताया कि ओलापरीब ने बीआरसीए म्यूटेशन या एचआरडी पॉजिटिव के साथ उन्नत ओवेरियन कैंसर वाले रोगियों को मदद की है।”

–आईएएनएस

एमकेएस/एसकेपी

E-Magazine