मस्तिष्क के स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालता है व्यायाम : शोध

नई दिल्ली, 15 मई (आईएएनएस)। एक शोध में यह बात सामने आई है कि शारीरिक गतिविधि का मस्तिष्क के स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है और यह न केवल आपके मस्तिष्क को फिर से जीवंत कर सकता है, बल्कि उम्र बढ़ने के साथ होने वाली याददाश्त की कमी को भी कम कर सकता है।

ऑस्ट्रेलिया में क्‍वींसलैंड विश्‍वविद्यालय की एक टीम ने चूहों के मस्तिष्क में व्यक्तिगत कोशिकाओं में जीन की अभिव्यक्ति पर ध्यान केंद्रित किया।

जर्नल एजिंग सेल में प्रकाशित परिणामों से पता चला है कि व्यायाम का मस्तिष्क के कार्य का समर्थन करने वाले केंद्रीय तंत्रिका तंत्र की प्रतिरक्षा कोशिकाओं माइक्रोग्लिया में जीन अभिव्यक्ति पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है।

महत्वपूर्ण बात यह है कि टीम ने पाया कि व्यायाम वृद्ध माइक्रोग्लिया के जीन अभिव्यक्ति पैटर्न को युवा चूहों में देखे गए जीन अभिव्यक्ति पैटर्न में बदल देता है।

क्‍वींसलैंड विश्‍वविद्यालय से जना वुकोविक ने कहा, ”हम आश्चर्यचकित और उत्साहित थे कि शारीरिक गतिविधि किस हद तक मस्तिष्क के भीतर प्रतिरक्षा कोशिकाओं की संरचना को फिर से जीवंत और परिवर्तित करती है, विशेष रूप से जिस तरह से यह उम्र बढ़ने के नकारात्मक प्रभावों को उलटने में सक्षम थी।”

वुकोविक ने कहा कि यह शोध अनुरूप व्यायाम कार्यक्रमों के महत्व पर जोर देता है।

उन्होंने कहा, “हमारे निष्कर्षों से विभिन्न उद्योगों को बुजुर्ग व्यक्तियों के लिए हस्तक्षेप डिजाइन करने में मदद मिलनी चाहिए जो अपनी शारीरिक और मानसिक क्षमताओं को बनाए रखना या सुधारना चाहते हैं।”

इसके अलावा, शोध से पता चला कि उम्र बढ़ने के दौरान चूहों के हिप्पोकैम्पस में टी कोशिकाएं कम हो जाती हैं।

टी कोशिकाएं प्रतिरक्षा कोशिकाएं हैं, जो उम्र के साथ बढ़ने के लिए जानी जाती हैं। शोध में पाया गया कि मस्तिष्क के हिप्पोकैम्पस में नए न्यूरॉन्स बनाने में मदद करने के लिए व्यायाम के उत्तेजक प्रभावों के लिए माइक्रोग्लिया कोशिकाओं की जरूरत होती है।

यह शोध वृद्ध वयस्कों के लिए शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य दोनों को बनाए रखने या सुधारने के लिए मदद कर सकता है।

–आईएएनएस

एमकेएस/एसजीके

E-Magazine