असम के लाओखोवा अभयारण्य में 2 संदिग्ध की गोली मारकर हत्या

असम के नगांव जिले में शनिवार को वन रक्षकों ने लावखोवा वन्यजीव अभयारण्य के भीतर गैरकानूनी रूप से मछली पकड़ रहे दो भाइयों की गोली मारकर जान ले ली। पुलिस ने कहा कि जुरिया के दो व्यक्ति वन्यजीव अभयारण्य में मध्य रात्रि को रौमारी भील में मछली पकड़ने गए थे।

वन रक्षकों के देखने पर वे लोग भागने लगे जिसके बाद फायरिंग की गई। पुलिस ने कहा कि घटना में दो भाई जलीलुद्दीन और समीरुद्दीन की मौत हो गई। दोनों भाइयों के घर का दौरा करने के बाद रुपोहीहाट के विधायक हारुल हुदा ने जांच कराने और पीड़ित परिवार को मुआवजा देने की मांग की।

दो गरीब मछुआरों की हत्या क्यों की गई?

कांग्रेस विधायक ने कहा कि यदि दोनों ने भागने का प्रयास किया तो उनके पैर में गोली मारी जाती। वन विभाग को इस बात का उत्तर देना चाहिए कि इन दो गरीब मछुआरों की हत्या क्यों की गई और उनके परिवार को मुआवजा क्यों नहीं दिया जाना चाहिए। ग्रामीणों ने कहा कि दोनों भाई मछुआरे थे और इससे पहले भी वे रौमारी भील में मछली पकड़ने गए थे।

E-Magazine