अब उर्दू में पढ़ सकेगा पीएम मोदी के ‘मन की बात’

लखनऊ: देश के अल्पसंख्यकों का दिल और मन बीजेपी के प्रति बदलने का जिम्मा बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा ने उठा लिया है. हर महीने के आखिरी रविवार को रेडियो पर होने वाली पीएम नरेंद्र मोदी की ‘मन की बात’ को उर्दू रंग पहनाने का काम बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा करने जा रहा है. मन की बात प्रोग्राम के दौरान पीएम मोदी ने जो भी बातें अब तक कहीं हैं उत्तर प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के अध्यक्ष कुंवर बासित अली ने उसको उर्दू अनुवाद में छपवाकर एक किताब तैयार करने की सारी तैयारी कर ली है. ये किताब जल्द ही मुस्लिम बहुल इलाकों में बांटी जाएगी. इस किताब में साल 2022 में आए सभी ‘मन की बात’ कार्यक्रम के संस्करण का अनुवाद किया गया है.

लोकसभा सीटों पर बांटा जाएगा

उर्दू में छपने जा रही इस किताब को खास तौर पर उत्तर प्रदेश की उन 14 लोकसभा सीटों पर बांटा जाएगा जो फिलहाल बीजेपी के पास नहीं हैं. इस किताब को मुस्लिम समाज के धर्मगुरुओं और प्रबुद्धजनों के बीच बांटा जाएगा, ताकि वो ये बात जान सकें कि पीएम मोदी देश के लिए क्या-क्या कार्य कर रहे हैं. जो भी योजना सरकार देश में लागू कर रही है उन सभी का लाभ बिना भेदभाव के देश के हर समुदाय को मिल रहा है.

सभी तक पीएम मोदी की मन की बात पहुंचाना है मकसद

कुंवर बासित अली ने कहा कि मन की बात के उर्दू अनुवाद हुई किताब का मकसद अल्पसंख्यक समाज तक पीएम मोदी की आवाज को पहुंचाना है. उन्होंने कहा कि इस किताब में दारुल उलूम देवबंद और नदवतुल उलमा जैसे विश्व प्रसिद्ध इस्लामी शिक्षण संस्थानों के प्रमुखों के शुभकामना मैसेज भी शामिल करने की तैयारी की जा रही है.

रमजान में किताब बांटने की तैयारी

कुंवर बासित ने कहा कि अभी किताब तैयार नहीं हुई है, हम उस पर काम कर रहे हैं. किताब का उर्दू अनुवाद कार्य पूरा कर लिया गया है. उम्मीद की जा रही है कि रमजान के दौरान किताब को तैयार कर छपवाकर मु्स्लिम समाज के लोगों के बीच बांटा जाए. उन्होंने बताया कि इस किताब की लगभग एक लाख कॉपियां छपवाई जाएंगी. यह किताब किसी बुक स्टॉल पर नहीं मिलेगी. इसे प्रदेश के मुस्लिम बहुल क्षेत्रों में एक तोहफे के तौर पर वितरित किया जाएगा.