नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट का मुख्य सचिव ने किया निरीक्षण

ग्रेटर नोएडा, 28 जून (आईएएनएस)। ग्रेटर नोएडा के जेवर में बन रहे नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के काम को और भी ज्यादा तेज करने की कवायद शुरू हो गई है। उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ने यमुना अथॉरिटी के सीईओ अरुण वीर सिंह, गौतमबुद्ध नगर के जिला अधिकारी मनीष वर्मा और अन्य अधिकारियों के साथ नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट का निरीक्षण किया और अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक भी की।

उन्होंने नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर जल्द से जल्द व्यावसायिक उड़ानों को शुरू करने के दिशा निर्देश दिए। एयरपोर्ट का निर्माण करवा रही ज्यूरिख एयरपोर्ट की एसपीवी यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड ने बताया कि परियोजना के लिए डेवलपमेंट प्लान के अनुसार एटीसी बिल्डिंग को पूरा करने का काम चल रहा है। अगस्त के अंत तक बिल्डिंग को एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया को एटीसी उपकरण लगाने के लिए हैंडओवर कर दिया जाएगा।

एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने बताया कि उपकरण लगाने का काम सितंबर तक पूरा हो जाएगा। रनवे और एप्रन पर वर्तमान में इलेक्ट्रिक लाइट का कार्य चल रहा है। रनवे के पास नेविगेशन उपकरण के साथ-साथ ग्लाइड पाथ एंटीना और लोकलाइजर लगाए जा चुके हैं।

मुख्य सचिव ने निर्देश दिए हैं कि सभी तरह के उपकरण लगाने का काम सितंबर तक पूरे कर लिए जाएं। टर्मिनल बिल्डिंग के निरीक्षण के समय ज्यूरिख कंपनी के प्रतिनिधि ने बताया कि वर्तमान में फसाड और रूफ का कार्य प्रगति पर है। ऑटोमेटेड बैगेज हैंडलिंग सिस्टम के इंस्टॉलेशन का कार्य जारी है। अभी तक 37 मिलियन सेफ वर्क आवर का कार्य सफलतापूर्वक किया गया है।

मुख्य सचिव ने निर्देश दिए कि एयरपोर्ट का विकास माइलस्टोन के अनुसार समय से सितंबर तक पूरा कर लिया जाए। इसके बाद दिसंबर से कमर्शियल ऑपरेशन शुरू किया जाए। निरीक्षण के बाद समीक्षा बैठक की गई। बैठक में जेवर एयरपोर्ट के लिए सीआईएसएफ, सीएनएसएटीएम, सिक्योरिटी और डीजीसीए से संबंधित बिंदुओं पर चर्चा की गई।

मुख्य सचिव ने साफ तौर पर कहा है कि एयरपोर्ट के सभी विभागों की आवश्यकता और प्रचलित नियमों के अनुसार कार्रवाई कराएं और समस्या का निस्तारण सितंबर तक पूर्ण कराएं। एयरपोर्ट का कमर्शियल ऑपरेशन प्रत्येक दशा में दिसंबर में प्रारंभ होना है। इसके लिए कंसेशनेयर, टाटा प्रोजेक्ट लिमिटेड के साथ बैठक कर कैचअप प्लान 15 जुलाई तक प्रस्तुत करें। फॉरेस्ट डिपार्टमेंट रेस्क्यू सेंटर का कार्य प्राथमिकता में पूर्ण कराने के भी निर्देश दिए गए।

–आईएएनएस

पीकेटी/एबीएम

E-Magazine