मानसिक संकट से जूझ रहे बांग्लादेशी किशोर की न्यूयॉर्क पुलिस ने गोली मारकर की हत्या

[ad_1]

न्यूयॉर्क, 29 मार्च (आईएएनएस)। पुलिस ने “मानसिक संकट” से जूझ रहे एक बांग्लादेशी किशोर की गोली मारकर हत्या कर दी। पुलिस के अनुसार किशोर ने उन पर कैंची से हमला किया था और उसके पास अपनी रक्षा के लिए उसे गोली मारने के अलावा कोई अन्य विकल्प नहीं था।

न्यूयॉर्क पुलिस गश्ती प्रमुख जॉन चेल ने एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि बुधवार दोपहर 19 वर्षीय विन रोज़ारियो ने आपातकालीन पुलिस लाइन को एक कॉल किया।

चेल ने बताया कि पुलिस जब रोजारियो के घर पहुंची, तो उसने उन पर कैंची से हमला कर दिया। इस पर पुलिस ने उसे वश में करने के लिए टेसर का इस्तेमाल किया। लेकिन उसकी मां के हस्तक्षेप के कारण टेसर काम नहीं कर सका।

गौरतलब है कि टेसर एक विद्युत उपकरण है, जो किसी व्यक्ति को वश में करने के लिए बिजली के झटके देता है।

चेल ने कहा, रोज़ारियो ने कैंची उठाई और पुलिस के पीछे आ गया, ऐसे में पुलिस के पास अपना बचाव करने के लिए उसे गोली मारने के अलावा कोई अन्य विकल्प नहीं था।

लेकिन, रोज़ारियो के भाई, 17 वर्षीय उश्तो ने पुलिस की बात का खंडन करते हुए कहा कि उसकी मां उसे पूरे समय पकड़ कर रखती थी।

न्यूयॉर्क टाइम्स ने उश्तो के हवाले से कहा, “एक पुलिसकर्मी ने बंदूक निकाली और उसे गोली मार दी, जबकि मेरी मां अभी भी उसे गले लगाए हुए थी।”

चेल ने कहा कि पुलिस ने बॉडीकैम पहना था, उसमें घटना रिकॉर्ड है। यह वीडियो घटना की सच्चाई बताएगा।

इसके पहले सोमवार को एक पुलिस अधिकारी, जो संभवतः भारतीय मूल का है, ने उस बंदूकधारी को गोली मार दी, जिसने अवैध रूप से पार्क की गई कार की जांच करते समय उसके सहयोगी की हत्या कर दी थी।

वेकाश खेदना नामक अधिकारी, पुलिस डेटाबेस में एक एशियाई के रूप में सूचीबद्ध है और वह न्यूयॉर्क स्थित राष्ट्रमंडल क्रिकेट लीग में पुलिस क्रिकेट टीम में शामिल हैं।

भारतीय मूल का एक अन्य पुलिस अधिकारी पिछले महीने तब चर्चा में आया था, जब टाइम्स स्क्वाॅयर में अवैध अप्रवासियों के एक गिरोह ने उस पर हमला किया था।

–आईएएनएस

सीबीटी/

[ad_2]

E-Magazine